आगे कैसे लड़ाई जारी रखें?

Photo by Jaskaran Singh

देश के राजनीतिक हालात दिनदिन बद से बदतर होते जा रहे हैं और मुमकिन है कि स्वतंत्रता सेनानियों की कुर्बानियों से हासिल अल्प लोकतांत्रिक सहूलियतें भी वर्तमान शासकों द्वारा जबरन छीन ली जाएं। जनता में अपना विश्वास गंवा बैठी सरकार के अपने राजसुख की आयु वृद्धि के लिए एकमात्र विकल्प है कि सरकार अपने लोकतांत्रिक आचरण का चोला उतार दे और लोकतांत्रिक व्यवस्था को बूटों तले कुचले, जनता के प्रति जवाबदेही से बचें। सरकार पर जनदबाव बढ़ने के साथ ही सरकारी निरंकुशता बढ़ती जाएगी। जिससे एक ऐसी परिस्थिति का निर्माण होगा जिसमें जनता के लिएक्रांतिही एकमात्र विकल्प बचा रह जाएगा। भारतीय परिवेश में क्रांति के मूल वाहक युवा और मजदूर होंगे जिनका मजबूत और व्यावहारिक लेकिन अटूट अनुशासित संयमित मेल दुनिया में एक नई पहचान कायम करेगा।  भारत को एक बेहतर प्रशासन देने के साथ आर्थिक तौर पर सम्पन्न भी बनाएगा। 

भारत में क्रांति किसी एक राजनीतिक पार्टी द्वारा संपन्न हो इसकी कामना तो की जा सकती है लेकिन सुनिश्चित नहीं किया जा सकता है। हाँ, एक बात निश्चित ही कही जा सकती है कि जनता द्वारा निर्मितक्रांतिकारी मोर्चेमें कई पार्टियां शामिल होकर अपनी भागीदारी करें। इस सूरत में उन्हें अपने राजनैतिक एजेंडे को  ‘क्रांतिकारी मोर्चेके एजेंडे से पीछे रखना होगा। हम जिस दौर की तरफ बढ़ रहे हैं जनता के इसक्रांतिकारी मोर्चेके निर्माण के लिए जनता को प्रेरित करने के साथसाथ युवाओं और मजदूरों को एकदूसरे से नजदीकी बढ़ाने में लग जाना चाहिए।

क्योंकि उस मोर्चे की मूल शक्ति युवा और मजदूर होंगे तो हमें इसका नामराष्ट्रवादी युवा और मजदूर मोर्चारखना होगा क्योंकि भारतीय जनमानस विशेष रूप से युवा और मजदूर को अपने राष्ट्र से प्रेम होता है औरराष्ट्रवादशब्द उनके बीच सबसे ज्यादा प्रचलित है जिसका हम बेहतर इस्तेमाल कर सकते हैं ताकि वह इस मोर्चे की आधारभूत संकल्पनाओं को सहज ही ग्रहण कर सकें। 

जो लोग  अपनेअपने तरीकों से भारतीय जनमुक्ति का स्वप्न देखते रहे हैं उन्हें इसे अपना कार्यभार समझकर पहल तेज करनी चाहिए। पार्टी को इस पर पहल के लिए जरूरी रायशुमारी शुरू करनी चाहिए.