हम लड़ेंगे-हम जीतेंगे

हरशरणजीत कौर

(रुद्रपुर) उत्तराखंड ने रुद्रपुर जिला के ऊधम सिंघ नगर में पहली मार्च 2021 को किसान महापंचायत का आयोजन किया।  इस स्थल को पहले मोदी मैदान कहा जाता था।सभा में  इस मैदान का नाम बदल कर किसान मैदान  रखा  गया संयुक्त किसान मोर्चा के नेता डॉ। दर्शनपाल, गुरनाम सिंह चारुणी और चौधरी राकेश सिंह टिकैत ने कुमाऊं रेजियो  से आने वाले किसानों को संबोधित किया। इस  महापंचायत  में शामिल होने वाले किसानों की संख्या 1 लाख से अधिक थी  जिसमें –  महिलाएं, खेतिहर मज़दूर और सभी समुदाय के किसान  शामिल थे। 

किसानों को संबोधित करते हुए, डॉ दर्शनपाल ने किसानों को उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के सभी टोल प्लाजा को खाली करने की शपथ लेने को कहा और धरना शुरू करने का आह्वान किया। उन्होंने पंजाब और हरियाणा का उदाहरण दिया, जहां सभी टोलप्लाजा यात्रियों के लिए स्वतंत्र हैं। उन्होंने किसानों सेसत्ताधारी पार्टी’ (रूलिंग पार्टी) का बहिष्कार करने का आह्वान किया और चुनाव होने पर उन्हें हराने का संकल्प लिया।उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन एक जन आंदोलन बन रहा है और देश भर के लोग इसमें शामिल हो रहे हैं।

हरियाणा के एसकेएम लीडर गुरनाम सिंह चारुणी ने कहा, “आज के भारत में एक गरीब आदमी की प्रति घंटा कमाई मुश्किल से 9 रुपये है, जबकि कुछ कॉरपोरेट्स की कमाई  एक घंटे में 90 करोड़ की  है। भारत के नागरिकों के बीच यह असमानता उचित नहीं है।

उन्होंने किसानों को सुझाव दिया कि यदि कोई भी भाजपा नेता बैठक के लिए आपके क्षेत्र का दौरा करता है, तो उनसे उसी तरह निपटें जैसे हम हरियाणा में सीएम खट्टर से निपटते हैं। जो आपके आंदोलन का समर्थन नहीं दे  रहे हैं उन्हें वोट दें। उन्होंने मज़ाक़िया लहजे में  कहा कि आप एक गधे को वोट दे दें पर उन्हें ( जो आंदोलन के ख़िलाफ़ हैं) कभी वोट दें। रोहतक के मोखरा गांव में कुछ दिन पहले हरियाणा के दिग्गज किसान नेता सर छोटूराम की प्रतिमा को इलाके में तनाव पैदा करने के लिए क्षतिग्रस्त कर दिया गया था।

श्री चारुनी ने कहाचूंकि इस कुछ भी लाभ नहीं हुआ इसलिए , अब वे किसानों के खिलाफ दलितों को उकसाने के लिए बाबा भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा को नुकसान पहुंचाने की कोशिश कर सकते हैं। लोगों को इस  विभाजनकारी राजनीति को हराने के लिए एकजुट रहना चाहिए।माँगमाँग कर देख लिया, अब जोर आज़मा कर देखेंगे

राकेश टिकैत,

उत्तराखंड सरकार को चेतावनी देते हुए किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि अगर सरकार ने किसानों को परेशान करना बंद नहीं किया तो यूपी के किसान उत्तराखंड को जोड़ने वाली सभी सड़कों को बंद कर देंगे।

उत्तराखंड के किसानों के मुद्दों पर चर्चा करते हुए टिकैत ने कहा कि वे उत्तराखंड सरकार को पांच सूत्री प्रस्ताव दे रहे हैं, जिससे सुधार करने में मदद मिलेगी। उन्होंने सुझाव दिया:

  1. ग्रामीण आजीविका को पुनर्जीवित करने के लिए एक ठोस ग्राम पर्यटन नीति होनी चाहिए।
  2. राज्य के कृषि क्षेत्र को पुनर्जीवित करने के लिए, उत्तराखंड के सभी कृषि उत्पादों को बाजार तक आसानी से पहुंचने के लिए परिवहन सब्सिडी होनी चाहिए।
  3. पहाड़ी क्षेत्र में काम करने वाले लोगों को विशेष प्रोत्साहन के रूप में पहाड़ी भत्ता मिलना चाहिए।
  4. उत्तराखंड में अंतर्राष्ट्रीय सीमाओं के करीब रहने वाले लोगों को भी विशेष प्रोत्साहन मिलना चाहिए ताकि वे मैदानों की ओर पलायन करने के लिए मजबूर हों।
  5. तराई क्षेत्र के गन्ना किसानों की मुश्किलों को संबोधित करते हुए, टिकैत ने कहा कि उन्हें एमएसपी (न्यूनतम समर्थन मूल्य) नहीं मिलता है, समय पर भुगतान नहीं होता है और कई व्यापारी बिना  भुगतान  किए ही चले जातें हैं।  उन्होंने सुझाव दिया की निजीकरण करने के बजाय सरकार को  काशीपुर चीनी मील के पुनरुद्धार की दिशा में काम करना चाहिए।

अपनी बात ख़त्म करने के पहले टिकैत ने अनुरोध किया की उनका महिमा मंडन किया जाए क्योंकि वह भी एक साधारण गन्ना किसान हैंजो भुगतान की प्रतीक्षा कर रहा है। उन्होंने कहा कि वह संयुक्ता किसान मोर्चा  के उन सदस्यों में से हैं जो सामूहिक नेतृत्व में विश्वास रखता है।

महापंचायत ने शहीद नवप्रीत सिंह के दादा हरदीप सिंह को सम्मानित किया। श्री सिंह ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि युवा इस आंदोलन की रीढ़ हैं और उनसे आंदोलन से संबंधित सभी मुद्दों पर परामर्श किया  जाना चाहिए।

प्रसिद्ध सुप्रीम कोर्ट के वकील भानुप्रताप सिंह ने भी महापंचायत को संबोधित किया और किसानों से आवाहन किया कि वे अडानी, अंबानी और लाला रामदेव के उत्पादों का बहिष्कार करें।  उन्होंने किसान आंदोलन की आवाज को व्यापक रूप से फैलाने के लिए युवाओं से सोशल मीडिया पर सक्रिय रहने को कहा। आगे उन्होंने लोगों से 1 साल के लिए टेलीविजन को ब्लॉक करने का अनुरोध किया  क्यूँकि मुख्य धारा के चैनल, किसान आंदोलन के विरोध में हैं।

केरल के बारे में कुछ नहीं जानते आप: चिट्ठी   बादल सरोज