विज़न बोर्ड क्या है?

विज़न बोर्ड क्या है? भारत के प्रधान मंत्री के अधिकारिक अकाउंट द्वारा 19 फ़रवरी को किए गए ट्वीट के अनुसार प्रधानमंत्री 2047 तक इस देश को बेहतर बनाने के लिए विचारों का संकलन करने का सुझाव देते हैं, जो कि हमारे देश की 100 वर्षीय सालगिरह को एक स्वतंत्र और लोकतांत्रिक रूप में चिह्नित करता है।

एक टूलकिट क्या है? अतीत में जब चीज़ें सरल होतीं थी, यह एक बढ़ई या प्लंबर द्वारा चीज़ों को ठीक करने के लिए औज़ारों का एक बक्सा हुआ करता था। इस तरह के अराजक समय में, टूलकिट एक दस्तावेज़ है जो एक संगठित विरोध प्रदर्शन के इरादे को सूचीबद्ध करता है, उसकी लक्ष्य प्राप्ति, कौन से पक्ष अथवा समुदाय प्रभावित या शामिल हैं और एक संक्षिप्त योजना होती है कि वह विरोध प्रदर्शन वास्तविक या डिजिटल स्तर पर किस प्रकार आगे बढ़ेगा।

 इसका प्रयोग ठीक उसी प्रकार होता है जिस तरह एक प्लंबर या बढ़ई अपने उपकरणों का प्रयोग करता हैएक टूलकिट वह दस्तावेज़ है जो यह बताता है कि जिस दुनिया में हम रहते हैं, उसकी समस्याओं का, एक समय पर एक मुद्दे का हल निकालने के लिए क्या करना चाहिए। 

अब, यदि आप मुझसे पूछें, तोविज़न बोर्डशब्दटूलकिटशब्द के भविष्य काल जैसा सुनाई पड़ता है, जो अनिवार्य रूप से वर्तमान में कार्रवाई की माँग करता है। इसलिए, यदि लाखों लोगों का समुदाय जो पीड़ित है और पहले से ही आपको सरकार द्वारा बनाए गए एक मुद्दे के लिए वास्तविक समय में समाधान दे रहा है, तो विज़न बोर्ड किस उद्देश्य से काम करेगा? यदि सत्ता में बैठे लोग आज नहीं सुनेंगे, तो वे भविष्य में क्या अलग करेंगे?

सच के पक्ष में सही कारणों से अपनी आवाज़ उठाते हुए लोगों पर देशद्रोही होने का आरोप लगाना केवल यह दिखाता है कि सरकार में अपनी गलतियों के प्रति कितनी कम सहिष्णुता है, जो मुझे एक बहुत ज़रूरी सवाल  पर लाती हैअपने नेताओं को जवाबदेह ठहराना एक देशद्रोही कार्य कैसे है

यदि शासन में बैठे लोग अकेले ही देश का प्रतिनिधित्व करते हैं और उनकी नीतियों के नाम पर किए गए घृणित अपराधों पर आवाज़ उठाना ग़ैरकानूनी है, तो हम लोग व्यवस्था में कहाँ खड़े होते हैं? क्या आजीविका के लिए लड़ने वाले लाखों लोग इतने महत्वहीन हैं कि पहले से ही अमीर, अनैतिक व्यवसाय करने वाले चंद लोग और भी अधिक धन और शक्ति प्राप्त कर सकें?

मुझे ख़ेद है प्रधान मंत्री जी, लेकिन अगर आपके वर्तमान की गलतियों को सुधारने के लिए एक दस्तावेज़ का सामना इस तरह के राजनीतिक प्रतिशोध के साथ किया गया है, तो भविष्य में 2047 में जैसे हम 100 साल पूरे करेंगे, इस देश को बचाने के लिए और लोकतांत्रिक महसूस करवाने के लिए एक विज़न बोर्ड से कई अधिक ज़रूरत होगी।