Author: Kamaljeet Choudhary

खेत

याद आते हैं

मुझे वे दिन

जब धान काटते हुए

थक जाने पर

शर्त लगा लेता था अपने आपसे

कि पूरा खेत काटने पर ही उठूँगा

Read More »