तेलंगाना किसान आंदोलन

शिवम मोघा 

तेलंगाना विद्रोह को औपचारिक रूप से वेट्टी चकिरी उदयम / तेलंगाना बंधुआ मजदूर आंदोलन के रूप में जाना जाता था। इसे तेलंगाना रायतांगा सयुध पोराटम (तेलंगाना किसान सशस्त्र संघर्ष) भी कहा जाता था। यह भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के नेतृत्व में तेलंगाना क्षेत्र के दमनकारी सामंती प्रभुओं / जमींदारों के खिलाफ और बाद में 1946-1951 के बीच हैदराबाद के निजाम के निरंकुश शासन के खिलाफ एक साम्यवादीनेतृत्व वाला सशस्त्र किसान विद्रोह था। आंदोलन की सबसे मुखर मांग किसानों के कर्ज माफ करना तथा जमीन पर जोतने वाले का मालिकाना हक़ की बात थी।

भारत में किसानों की पीड़ा, द्वितीय विश्व युद्ध की शुरुआत के साथ तेज हो गई थी, क्योंकि किसानों को शोषणकारी करों(लगान) और लेवी के अधीन किया गया था और उन्हेंवीटीटी’ (मजबूर श्रम) करने के लिए मजबूर किया गया था। यह गरीब किसान थे जो सबसे अधिक प्रभावित हुए थे, क्योंकि कई गरीब किसान करों, और गाँव के साहूकारों के लिए अपनी जमीन खोने का बोझ उठाने में असमर्थ थे। आंदोलन के नेताओं ने महसूस किया कि इस क्षेत्र के भूमिधारकों(भूमि के असली मालिक) के साथ घोर अन्याय हुआ है और तेलंगाना की तत्कालीन रियासत के जमींदारों और शासकों द्वारा उनका बहुत शोषण किया गया। आंदोलन के महत्वपूर्ण नेताओं में से  चकली इलम्मा थीउन्होंने जमींदार रामचंद्र रेड्डी के खिलाफ विद्रोह किया था. चकली इल्लम्मा ने अपनी 4 एकड़ जमीन वापस लेने की लड़ाई लड़ी और उनके इस विद्रोह से प्रभावित होकर कई लोगों आंदोलन में शामिल होने के लिए प्रेरित हुयें।

तेलंगाना में विद्रोह डोड्डी कोमारय्या की हत्या के बाद बढ़ा , वो आंध्र महासभा नामक एक पार्टी कार्यकर्ता थे। यह विद्रोह 5 साल तक चला। सामंती निजी सेनाओं / भाड़े के सैनिकों के साथ संघर्ष में लगभग 4000 किसानों ने अपनी जान गंवाई।  कम्युनिस्टों का प्रारंभिक उद्देश्य बंधुआ मजदूरी के नाम पर इन सामंती प्रभुओं द्वारा किए गए अवैध और अत्यधिक शोषण से दूर करना था लेकिन बाद में किसानों द्वारा लिए गए सभी ऋणों को हटाने की मांग जोर पकड़ने लगी। कम्युनिस्ट पार्टी पर निज़ाम की पुलिस द्वारा किए गए हमलों और बाद में 3 दिसंबर, 1946 को कम्युनिस्ट पार्टी पर प्रतिबंध लगा दिया गया। किसानो को दबाने के लिए, रजाकारमजलिसइत्तेहादुल मुस्लिमीन के मिलिशियानिज़ाम की सेना में शामिल हो गए. इस पुरे आतंक के बावजूद, कम्युनिस्टों ने वारंगल, खम्मम और नलगोंडा जिलों में एक समानांतर सरकार स्थापित करने में सफलता हासिल की। बड़े  जमींदार, जो ग्रामीण क्षेत्रों में निज़ाम की निरंकुशता के आधार थे, उनको, उनके किले जैसे घरों से बाहर निकाल दिया गया था, और उनकी ज़मीनों को किसानों द्वारा जब्त कर लिया गया था। कम्युनिस्ट के नेतृत्व वाले आंदोलन ने 3000 से अधिक गाँवों को क्रूर सामंतों से मुक्त कराने में सफलता प्राप्त की और भूमिहीन किसानों को लगभग 10,000 एकड़ कृषि भूमि वितरित की गई।

फरवरी 1948 में, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ने, अपराधियों को पकड़ने के उद्देश्य से  एक नई नीति गुर्रिला नीति  पेश की  थी, और यह काफी हद तक तेलंगाना विद्रोह की सफल बनाने में सहायता दी। गाँव में भूमिहीन खेतिहर मजदूरों को भूमि का पुनर्वितरण भी शुरू कर दिया, जिससे तेलंगाना आंदोलन की लोकप्रियता बढ़ गई। अगस्त 1948 के अंत तक, लगभग 10,000 छात्रों, किसानों और पार्टी कार्यकर्ताओं ने खुद को गांव के दस्तों में सक्रिय रूप से शामिल कर लिया, और लगभग 2,000 छोटे छापामार दस्ते बनाए गए। 13 सितंबर, 1948 को भारतीय सरकार ने हैदराबाद के खिलाफ पुलिस कार्रवाई शुरू की, और ऑपरेशन पोलो के तहत हैदराबाद का विलय भारत में कर लिया गया. लेकिन फिर भी वहां के कम्युनिस्ट नेता किसानो के हक़ के लिए लड़ते रहे, कम्युनिस्टों द्वारा इन गतिविधियों को सरकार द्वारा गैरकानूनी घोषित किया गया और पार्टी पर प्रतिबंध लगा दिया गया था और कम्युनिस्ट पार्टी के कई नेताओं को या तो भूमिगत होने के लिए मजबूर किया गया था या कैद कर लिया गया था।

इस विद्रोह का जनता पर व्यापक प्रभाव पड़ा और इसने 1952 के चुनावों में आंध्र प्रदेश में कम्युनिस्ट पार्टी की जीत सुनिश्चित की। भारत में भूमि सुधारों को एक महत्वपूर्ण पहलू के रूप में मान्यता दी गई थी और उन्हें लागू करने के लिए विभिन्न अधिनियम पारित किए गए थे। भूमिहीन के बीच भूमि का पुनर्वितरण किया गया; निष्कासन रोक दिए गए और वीटीचकीरी(किसान श्रम) को समाप्त कर दिया गया. सूदखोरी, शोषण और अत्यधिक दरों को या तो बहुत कम कर दिया गया या पूरी तरह से प्रतिबंधित कर दिया गया| खेतिहर मजदूरों की दैनिक मजदूरी में वृद्धि की गई और न्यूनतम मजदूरी लागू की गई. इस आंदोलन में सबसे बड़ी बात यह रही की, कईं महिलाओ ने इस आंदोलन को आगे बढ़ने में सक्रिय भूमिका निभाई|