राष्ट्रगीत

रघुवीर सहाय

राष्ट्रगीत में भला कौन वह

भारतभाग्यविधाता है

फटा सुथन्ना पहने जिसका

गुन हरचरना गाता है.

मखमल टमटम बल्लम तुरही

पगड़ी छत्र चंवर के साथ

तोप छुड़ाकर ढोल बजाकर

जयजय कौन कराता है.

पूरबपश्चिम से आते हैं

नंगेबूचे नरकंकाल

सिंहासन पर बैठा,

उनके तमगे कौन लगाता है.

कौनकौन है वह 

जनगणमन

अधिनायक वह महाबली

डरा हुआ मन बेमन जिसका

बाजा रोज बजाता है.