Author: Sarveshwar Dayal Saxena

फ़सल

हल की तरह 

कुदाल की तरह 

या खुरपी की तरह 

पकड़ भी लूं कलम तो 

फिर भी फसल काटने 

मिलेगी नहीं हम को। 

Read More »
en_GBEnglish