साफ-सफाई का इंतजाम करे सरकार

प्रभात तिवारी 

तीन विवादित कृषि कानूनों के विरोध में लगभग 25 दिनों से दिल्ली के सिंघू और टिकरी बॉर्डर पर प्रदर्शन चल रहा है। किसान इन बिलों का विरोध करने के लिए अपने घरों से सैकड़ों किलोमीटर दूर प्रदर्शन करने इकट्ठा हुए हैं ऐसे में कई सारी चुनौतियाँ भी उनके सामने हैं। ऐसी ही एक समस्या है, साफ सफाई और उससे पनपने वाली बीमारियां। हालांकि किसान अपने स्तर पर इस समस्या से निपटने का हर सम्भव प्रयास कर रहे हैं लेकिन बिना सरकार की मदद के इस समस्या से पूरी तरह निकल पाना सम्भव नहीं है। पंजाब और हरियाणा से आये हुए कुछ डॉक्टर प्रदर्शन कर रहे किसानों को पर्याप्त चिकित्सकीय सुविधाएं प्रदान करने का काम कर रहे हैं। 

पंजाब से आये हुए डॉक्टर सवाईमान सिंह कहते हैं, “पिछले कुछ दिनों से डायरिया के मामलों में अचानक से उछाल आया है, जो कि सही नहीं है।” वो हमें बताते हैं कि शुरुआत में उन्हें इस बात का अंदाज़ा नहीं था कि प्रदर्शन इतना लंबा चलेगा लेकिन जैसे जैसे प्रदर्शन आगे बढ़ रहा है वे आवश्यतानुसार संसाधन जुटा रहे हैं। साथ मे आये हुए डॉक्टर देओल बताते हैं कि महिलाओं के लिए अलग टेंट की व्यवस्था है और हम महिलाओं की स्वास्थ्य संबंधी आवश्यकताओं के भी ख्याल रख रहे हैं। उन्होंने कहा, 

“हमारे पास महिलाओं के लिए सैनिटरी पैड्स हैं और हमारा प्रदर्शन रूढ़िवादी धारणाओं से परे हटकर प्रगतिशील है, हम महिलाओं की जरूरतों को समझते हैं और उन्हें पर्याप्त सुविधाएं मुहैया करवा रहे हैं।”

इसके अलावा मूविंग टॉयलेट्स की भी व्यवस्था की गई है। किसानों के एक टीम की ड्यूटी समय समय पर प्रदर्शन स्थल को साफ करने की है और इस तरह से वे सफाई सुनिश्चित कर रहे हैं।

हालांकि, प्रदर्शन स्थल पर मौजूद डॉक्टर और किसान दोनों इस समस्या से निपटने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन अभी भी आवश्यकता है कि सरकार इस मुद्दे को गंभीरता से ले व साफ सफाई के पर्याप्त इंतज़ाम करवाये।